प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र कार्यालय में भाजपा नेता करते हैं दलाली : डॉ राजेश मिश्रा

Browse By

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र कार्यालय में भाजपा नेता करते हैं दलाली : डॉ राजेश मिश्र

breaking news New

Featured Video Play Icon

बनारस। इफेक्टेड गैस की वजह से बीएचयू के सर सुंदर लाल हॉस्पिटल में हुई मौतों को लेकर काशी में सर्वदलीय न्याय मार्च निकाला गया। ये मार्च पीएम मोदी के जनसम्पर्क ऑफि‍स तक जाना था, लेकिन पुलिस ने बैरिकेडि‍ंग लगाकर इस रोक दिया। स्थि‍ति‍ को कंट्रोल में रखने के लिए मौके पर करीब 8 थानों की फोर्स लगाई गई है। इस न्याय मार्च के दौरान डॉ राजेश मिश्रा ने प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र कार्यालय को दलाली का अड्डा भी बताया।
दरअसल, बीएचयू के सर सुंदर लाल हॉस्पिटल में अप्रैल 2017 में गैस की गड़बड़ी से 5 बच्चों की मौत हुई थी। इसके बाद 6 और 7 जुलाई को ऑपरेशन के दौरान 22 लोगों की हालत खराब हुई, इसमें 3 लोगों ने दम तोड़ दिया। बीएचयू की केंद्रीय टीम फैक्ट फाइंडिंग कमेटी ने अपनी जांच में गैस इफेक्टेड बताया। इसको लेकर आप, सपा, कांग्रेस, महामना ऐरा समेत कई राजनीतिक और गैर राजनीतिक संस्थाअों ने सोमवार को सर्वदलीय न्याय मार्च नि‍काला। जिसे कार्यालय तक पहुंचने से पहले पुलिस ने रोक दिया। जिसपर वहीं ज़मीन पर धरने पर बैठकर सभी ने एकजुट होकर अस्पताल के सीएमएस का निलंबन और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रावाई की मांग की।
बीएचयू प्रशासन को नहीं पड़ता फर्क
इस मौके पर मौजूद पूर्व संसद डॉ राजेश मिश्रा ने कहा कि बनारस में बना हुआ ट्रामा सेंटर और सर सुन्दर लाल चिकित्सालय में पिछले महीने यहां ऑक्सीजन के आभाव में 70 बच्चों की मौत हुई थी। इन मौतों के बीच यहां के कुलपति प्रधानमंत्री के भाषण का लाइव् टेलीकास्ट चलवाने में मस्त हैं। उन्हें इस बात की कोई चिंता नहीं है कि बच्चे मर रहे हैं। जबकि जांच समिति ने यह कह दिया है कि इसमें आद्योगिक गैस का इस्तेमाल किया जा रहा है। दोषियों की गिरफ्तारी और सज़ा के लिए हम सीबीआई जांच की मांग करते हैं |
प्रधानमंत्री कार्यालय में होती है दलाली
डॉ राजेश मिश्रा ने इस मौके पर एक विवादित बयान भी दिया उन्होंने कहा कि यह जो प्रधानमंत्री कार्यालय यहां है यह प्रधानमंत्री कार्यालय नहीं है यह भाजपा का कार्यालय है क्योंकि यदि यह प्रधानमंत्री का कार्यालय होता तो यहां आई एस लेवल का अधिकारी या सचिव या संयुक्त सचिव स्तर का कोई अधिकारी जनता की बात सुनने के लिए बैठता। यहां चार पांच भाजपा नेता बैठकर दलाली का काम करते हैं। इसलिए हम उन्हें पत्रक देने नहीं जायेंगे हम किसी प्रशासनिक अधिकारी को पत्रक देंगे।

Featured Video Play Icon

Source | livevns