छोटा बेटा शहीद हो गया बड़ा करता है प्रताड़ित

Browse By

सर, दो बेटे हैं। छोटा बेटा शहीद हो गया। बेटे के शहीद होने से पत्नी हॉर्ट की मरीज हो गई। विधवा बहू को अनुकंपा पर नौकरी तो मिल गई लेकिन अब भी दुखों के पहाड़ से दबा हूं और जी रहा हूं। बड़ा बेटा पिछले 15 वर्षों से घर के ही दो कमरे में ताला लगा दिया है और प्रताड़ित करता है।
यह कहते-कहते रिटायर्ड डीएसपी बीपी शर्मा की आंखों में आंसू आ गए। कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को डीएम संजय कुमार अग्रवाल को दुखड़ा सुनाते हुए उन्होंने बताया कि संपत्ति पत्नी के नाम पर है। वह उसे अपने नाम करवाना चाहता है। थाने में कई बार गुहार लगाई। एसडीओ ने भी समस्या सुनी लेकिन अभी तक समाधान नहीं हुआ।
बीपी शर्मा के अलावा करीब दो दर्जन बुजुर्गों ने अपनी आपबीती सुनाई। बेटों की बदनीयती और लालच के कारण मां-बाप के संबंध को शर्मसार करने वाली कई कहानियां डीएम से साझा की। डीएम ने बुजुर्गों की समस्याएं सुनकर समाधान के लिए कई निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि सीनियर सिटीजन एक्ट-2007 के तहत बुजुर्गों को कानूनी लड़ाई लड़ने का अधिकार है। बुजुर्ग मां-बाप के बच्चों को उनके भरण पोषण के लिए अधिकतम 10 हजार रुपये प्रत्येक महीने देना है।

30 दिनों में निपटाएं बुजुर्गों की समस्याएं
इस तरह के मामलों को 30 दिनों में निपटारा करने का निर्देश दिया गया। उन्होंने कहा कि जटिल मामलों को अधिकतम 45 दिनों में निपटारा करना है। बुजुर्गों को जल्द से जल्द न्याय मिले, इसके लिए जिला शिकायत निवारण कार्यालय में वरीय नागरिकों के लिए अलग से लाइन लगेगी ताकि उन्हें कोई समस्या न हो। प्रत्येक तीन महीने पर एक जिला स्तर पर बैठक होगी।

डीएम के सामने इन्होंने भी सुनाई आपबीती :

छोटा बेटा फर्जी हस्ताक्षर कर मकान मालिक बन बैठा
अपने जमाने के बड़े व्यवसायी गिरधारी लाल भूटानी जिनकी उम्र 90 के पार है। जिंदगी भर की कमाई को पानी की तरह अपने बेटों पर बहाने के बाद भी उम्र के अंतिम पड़ाव पर लाचार और बेसहारा हो गए हैं। छोटा बेटा फर्जी हस्ताक्षर कर पूरे मकान का मालिक बन बैठा है। मकान पर कब्जा कर गर्ल्स हॉस्टल चलाता है। संपत्ति हाथ से निकलने के बाद गिरधारी लाल अपनी बेटी के पास रहते हैं। पिता के साथ हुए नाइंसाफी की लड़ाई बेटी सुदेश लड़ रही हैं। एसडीओ कोर्ट में केस किया है लेकिन अभी तक न्याय नहीं मिला है।
बेटे ने कर दिया है केस
पटना के ही मोहन प्रसाद ने बताया कि उनके तीन लड़के हैं। जिनमें से एक लड़का अपराधी प्रवृत्ति का है। बेटे ने केस कर दिया है।
सौतेला बेटा करता है मारपीट खगौल से आयी शकुंतला देवी ने बताया कि उनका सौतेला बेटा मारपीट करता है। डीएम ने जब इन बुजुर्गों से अपनी परेशानी बताने को कहा तो ये सारी बातें सामने आई।

Source | livehindustan

%d bloggers like this: