‘अंतिम लड़ाई के लिए तैयार रहे शिक्षामित्र’ | livehindustan

Browse By

क्षेत्र के पूर्व माध्यमिक विद्यालय जहानागंज पर शनिवार को प्राथमिक शिक्षामित्र संघ की बैठक आयोजित हुई। इस दौरान दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना-प्रदर्शन करने की रणनीति बनायी गयी। साथ ही शिक्षामित्रों को अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने का आह्वान किया गया।

प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के जिला कार्यकारिणी सदस्य हीरालाल सरोज ने कहा कि यह सभी शिक्षामित्रों की अंतिम लड़ाई है। अपनी रोजी-रोटी के लिए हमें लड़ना है, इसलिए आप लोग इस लड़ाई से पीछे न हटें। इसके लिए अधिक से अधिक संख्या में दिल्ली धरने में प्रतिभाग करने के लिए रविवार को कैफियात एक्सप्रेस से रवाना होना है। नमो प्रकाश चौबे ने कहा कि हम लोगों की नौकरी छीनकर अच्छा नहीं हुआ, परिवार के सामने रोटी की समस्या खड़ी हो गयी है। इसके लिए सभी शिक्षामित्रों भाई-बहनों से आग्रह है कि अपने जीवन को सुरक्षित करने के साथ-साथ अपने भरण-पोषण आदि को देखते हुए आप घर पर मत रूकियेगा। इस बार दिल्ली के जंतर-मंतर पर सभी शिक्षामित्र अपना प्रदर्शन दिखायेंगे। केन्द्र व राज्य सरकार को प्रदर्शन के माध्यम से एहसास करायेंगे की हमारी मांगे जायज है और उसे माना जाए। बैठक में ब्लाक अध्यक्ष हरकेश यादव, हरेंद्र यादव, काली प्रसाद राय, नर्मदा राय, शशिकला, रवि वर्मा, ओमप्रकाश चौबे, नीलम शर्मा आदि मौजूद रहे।

तीन हजार शिक्षामित्र परिवार समेत देंगे धरना

प्रदेश सरकार की वादाखिलाफी से क्षुब्ध शिक्षामित्र सोमवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना-प्रदर्शन करेंगे। उप्र प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के महामंत्री अनिल विश्वकर्मा ने बताया कि जनपद के तीन हजार शिक्षामित्र अपने परिवार के साथ विभिन्न साधनों से रविवार को दिल्ली के लिए कूच करेंगे और तब तक वापस नहीं आयेंगे, तब तक हमारी मांग मान नहीं ली जायेगी। उन्होंने शुक्रवार को एटा जनपद के शिक्षामित्रों द्वारा जिला मुख्यालय पर दिये जा रहे शांतिपूर्ण धरने पर पुलिस द्वारा की गयी बर्बर लाठीचार्ज की घोर निंदा की और सरकार से आग्रह किया किया की निर्दयतापूर्ण रवैये से कदम पीछे।

%d bloggers like this: