गौ दुग्ध का सेवन कर श्रीराम चरित्र को जीवन में उतारें: सीताराम | livehindustan – Insta India

गौ दुग्ध का सेवन कर श्रीराम चरित्र को जीवन में उतारें: सीताराम | livehindustan

Browse By

राष्ट्रीय रामायण मेला के दूसरे दिन विद्वानों ने रामचरित मानस का सुन्दर बखान किया। भगवान राम की तपोस्थली चित्रकूट की महिमा का गुणगान किया।

आतंकवाद व धर्म की आड़ में समाज में कुरीतियां फैलाने वालों को विद्वानों ने संभलने का संकेत भी दिया। बुधवार को राष्ट्रीय रामायण मेला के दूसरे दिन राम कथा विद्वानों ने रामकथा पर प्रवचन किया। इलाहाबाद के डा सीताराम सिंह रामचरित मानस की प्रसंगिकता पर चर्चा करते हुये कहा कि वर्तमान में विश्व में अतांकवाद और धर्म के नाम पर सम्वेदनहीनता फैली है। मानस को अपने आचरण में उतारने से यह अपने आप शांत हो सकती है। हर व्यक्ति यदि गाय के दूध का सेवन करे और भगवान राम के आदर्श अपने जीवन में उतारे तो सभी विसंगतियां अपने आप समाप्त हो जाएगी। कहा कि हर गांव में अखंड रामायण पाठ होने चाहिए।

रामप्रताप शुक्ला किकंर ने कहा कि रामचरित मानस कलियुग वासियो के दैनिक जीवन में व्यावहारिक परिवर्तन देने वाला ग्रंथ है। जयपुर के डा सरोज गुप्ता ने कहा कि शिव ने सर्वप्रथम रामचरित को अपने हृदय पर उतरा। डा चन्द्रिका प्रसाद दीक्षित ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास की मानस का प्रभाव केवल राम काव्य में ही नहीं बल्कि गीता भागवत में भी प्रारम्भ हो गया है। चित्रकूट अध्यात्मिक साधको की तपोस्थली आदि काल से रही है। अयोध्या के डा हरि प्रसाद दुबे ने कहा कि तुलसी ने राम कथा से मनुष्य के अन्दर विद्यमान सवार्ेत्तम गुणों को संसार के सामने रखा है। मानस दु:ख में सुख देता है। सम्पूर्ण मानव जाति को इसने राममय बनाया है। कलकत्ता सिलीगुण के महाकवि मोहन दुकुन ने कहा कि रामायण से ज्ञात होता है कि लंका के पास जगत प्रसिद्घ रामेश्वरम धाम स्थापित किया गया था।

विविध सांस्कृति कार्यक्रमों ने दर्शकों का मन मोहा

राष्ट्रीय रामायण मेला में सुबह जगद्गुरू रामभद्राचार्य विकलांग विवि के योग विभाग के जितेन्द्र कुमार ने दिव्यांग छात्रों को योग कराया। बृजकला केन्द्र मथुरा के निदेशक श्रीनाथ शर्मा ने नाराद मोह लीला का मंचन किया। रात में भी इसी केन्द्र द्वारा कृष्ण जन्म महोत्सव लीला एंव शिव तान्डव, शिव पार्वती नृत्य नाटिका एवं महाकाली के रौद्र रूप का दर्शन कराते हुये श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया।

आज होंगे यह कार्यक्रम

गुरुवार को राष्ट्रीय रामायण मेला में अखिल भारतीय साहित्य परिषद हैदराबाद द्वारा रूपक रमणी रामायणम कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाएगा। युक्ति कला मंथन इलाहाबाद द्वारा लोक नृत्य, सूफी नत्य पेश किया जाएगा। इसके अलावा रिवाइवल गु्रप आफ इंडिया नई दिल्ली के कलाकार रामलीला का भव्य मंचन करेंगे।

कृषि योजनाओं का लाभ लें किसान: सीडीओ

राष्ट्रीय रामायण मेला परिसर के पास रैन बसेरा परिसर में चल रहे किसान मेला के दूसरे दिन का शुभारंभ सीडीओ जय प्रकाश पाण्डेय ने किया। उन्होंने कहा कि अत्याधुनिक तरीके से खेती बारी की जाए। पानी का दुरूपयोग न करें। किसानों के लिए सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही हैं। किसाान इन योजनाओं का लाभ लें। वहीं कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को आधुनिक विधियों की जानकारी दी।

Source | livehindustan