किस किस की सुने यूपी 100, किसी को बंदर पर करनी है कार्यवाही तो कोई रोते बच्‍चे को चुप नहीं करा पा रहा – Insta India

किस किस की सुने यूपी 100, किसी को बंदर पर करनी है कार्यवाही तो कोई रोते बच्‍चे को चुप नहीं करा पा रहा

Browse By

किस किस की सुने यूपी 100, किसी को बंदर पर करनी है कार्यवाही तो कोई रोते बच्‍चे को चुप नहीं करा पा रहाकिस किस की सुने यूपी 100, किसी को बंदर पर करनी है कार्यवाही तो कोई रोते बच्‍चे को चुप नहीं करा पा रहा
यूपी पुलिस की आपात सेवा यूपी 100 को शुरू हुए एक साल हो गया है। इस दौरान उसने कैसी कैसी शिकायतें झेली हैं जान कर आप हंसते हंसते बेहाल हो जायेंगे।

अजब गजब शिकायतें 

उत्‍तर प्रदेश पुलिस की आपात सेवा के पहले साल के दौरान आने वाली शिकायतों को आप जानें गे तो हैरान तो होंगे ही हंस हंस कर दोहरे भी हो जायेंगे। यहां अपनी शिकायतों में किसी ने बंदर पर कार्रवाई की मांग की तो किसी ने दरवाजा खोलकर सोने वाली पत्‍नी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। रोते हुए बच्चे को चुप कराने से लेकर छत पर चढ़ी भैंस को नीचे उतारने तक में मदद करने की गुहार लगाते लोगों ने डायल 100 का इस्‍तेमाल किया। आप भी देखिए कुछ नमूने।  

मेरी बीबी से चाय दिलवा दो

जीहां एक सुबह यह शिकायत की यूपी-100 में आयी कि मैडम, मेरी पत्नी सुबह चाय नहीं दे रही, मदद करिये। अपनी नाराज पत्नी की हरकत से परेशान पति ने जब अपनी समस्‍या बताई तो विभाग ने परिवार को बिखरने से बचाने के लिये पीआरवी पर तैनात पुलिसकर्मियों को मदद के लिये भेजा। शिकायतकर्ता के घर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने पति-पत्नी को समझाबुझाकर उनके गिले-शिकवे दूर कराए और पत्नी से चाय बनवाकर पति को पिलाई। हालांकि इसके बाद पुलिसकर्मियों के इस व्यवहार से प्रभावित दंपति ने भी दोबारा आपस में झगड़ा न करने का वायदा किया। 

छत से भैंस उतारनी है

ऐसी ही एक और रोचक कॉल आई, जिसमें शिकायतकर्ता ने दुहाई दी कि उसकी भैंस छत पर चढ़ गई है। इस पर उसे सलाह दी गई कि वह भैंस को रोटी या चारा दिखाये तो भैंस वापस आ जायेगी, लेकिन, कॉलर ने बेबसी बताते हुए कहा कि असल में उसने भैंस को बहुत मारा है, इसलिए वह नाराज है और उसकी बात नहीं मान रही। आखिरकार मौके पर पीआरवी को भेजा गया और पुलिसकर्मियों ने शिकायत को सही पाया। इसके बाद बमुश्‍किल किसी तरह भैंस को वापस नीचे उतारा।

पत्‍नी दरवाजा क्‍यों नहीं बंद करती

एक अन्‍य शिकायत में कहा गया कि मेरी पत्नी दरवाजा खोलकर सोती है। जानकारी मांगने पर फोन करने वाले शख्स ने बताया कि दरअसल, उसकी पत्नी को नींद में चलने की आदत है, इसलिए वो उससे दरवाजा बंद करके सोने को कहता है। इस पर उसे सुझाव दिया गया कि जब पत्‍नी सो जाये तो दरवाजा बंद कर दिया करो। इस पर उस व्‍यक्‍ति ने कहा कि नहीं अगर मैं ऐसा करूंगा तो वह सुबह उठकर मुझे बहुत पीटेगी। आखिरकार पीआरवी को भेज कर महिला को समझाया गया तो वह दरवाजा बंद कर सोने को राजी हो गई।

बंदर को सजा दो

एक कॉल में बताया गया कि बंदर ने हमे बहुत मारा है। पूरा किस्‍सा इस प्रकार था, शिकायत करने वाला मंदिर गया था, जहां जमीन पर 12 केले रखे थे। उसने सोचा दो केले ले लूं, ताकि घर पर जाकर मंदिर का प्रसाद दे सके। जैसे ही वह केला उठाकर आगे बढ़ा, वैसे ही एक बंदर ने आकर उसकी पैंट खींची, और मुड़ने पर उसके गाल पर जोर-जोर से कई थप्पड़ रसीद कर दिये। जब उससे पूछा गया कि इसमें पुलिस क्या कर सकती है, तो फोन करने वाले ने कहा कि अरे एक बंदर उसे इतना मारकर गया है और आप पूछ रहे हैं कि पुलिस क्यों चाहिये? 

लोटा-थाली बजा कर हैरान करने वाली बीबी से बचाओ

एक रात एक आदमी ने फोन करके बताया कि तुरंत पुलिस भेजिये, मेरी पत्नी बच्चों को बहुत परेशान कर रही है और घर में बहुत तेज-तेज लोटा-थाली बजा रही है। वह किसी को सोने नहीं दे रही है। मना करने पर मारने दौड़ती है। तुरंत पीआरवी को मौके पर भेजा गया और पड़ताल में पता चला कि पति से विवाद के बाद पत्नी ऐसी हरकत कर रही थी। पुलिसकर्मियों ने दोनों को समझा बुझाकर उनके बीच सुलह करा, तब जाकर पत्नी शांत हुई।

पुलिस भेज दो बच्‍चा रो रहा है

एक दिन रात आठ बजे एक शख्स ने यूपी 100 में कॉल किया। वह आवाज से बेहद परेशान लग रहा था और पीछे से बच्चे के रोने की आवाज आ रही थी। उस व्यक्ति ने बताया कि पत्नी घर पर नहीं है और वह बहुत परेशान है। जब उस व्यक्ति से पूछा कि पुलिस सहायता क्यों चाहिये तो उस व्यक्ति ने कहा बचवा बहुत रोवत है, इका चुप कराये के वास्ते पुलिस भेज दो। 

By Molly Seth 

Source | jagran