महोत्सव के शोर में बच रहे फर्जी डीएल बनाने के गुनहगार | livehindustan – Insta India

महोत्सव के शोर में बच रहे फर्जी डीएल बनाने के गुनहगार | livehindustan

Browse By

आरटीओ में पासवर्ड चुराकर 39 डीएल जारी करने के प्रकरण में कैंट पुलिस और आरटीओ के अफसर हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं। गोरखपुर महोत्सव और खिचड़ी मेले में ड्यूटी की बहाना बनाकर पुलिस प्रकरण की लीपापोती करने में जुटी है। मामले के विवेचक को अभी तक जांच करने की फुर्सत नहीं मिली है, जबकि सीसीटीवी फुटेज में फर्जी डीएल बनाने के गुनहगार साफ देखे जा सकते हैं।

-अभी तक आरटीओ दफ्तर तक नहीं पहुंची पुलिस, नहीं खंगाला सीसीटीवी फुटेज

-आरटीओ में पासवर्ड चुरा जारी हुए डीएल प्रकरण को मैनेज कर रहे जिम्मेदार

साल के पहले दिन आरटीओ के लिपिक और कुछ प्राइवेट आदमियों ने आरआई का पासवर्ड चुराकर लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस के ऑनलाइन टेस्ट में फेल 39 आवेदकों को पास कर दिया था। मामला खुलने के बाद आरटीओ ने वरिष्ठ लिपिक को निलंबित कर अज्ञात के खिलाफ कैंट थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद सब इस्पेक्टर प्रमोद सिंह यादव को मामले की विवेचना सौंपी गई थी। लेकिन विवेचक को अभी तक आरटीओ दफ्तर जाने की फुर्सत नहीं मिली है।

मामले में आरटीओ के अधिकारी भी कोई रूचि नहीं ले रहे हैं। हजारों रुपये लेकर फेल को पास करने के मास्टर माइंड कर्मचारियों की कारगुजारियां सीसीटीवी में कैद है। लेकिन पुलिस अभी तक आरटीओ दफ्तर के सीसीटीवी फुटेज को नहीं खंगाल सकी है। जबकि आरटीओ के सूत्रों का कहना है कि सीसीटीवी में फर्जी डीएल बनाने के गुनहगार साफ दिख रहे हैं। दूसरी तरफ आरटीओ के अफसर भी मामले को ठंडे बस्ते में डालने की फिराक में दिख रहे हैं। तहरीर के बाद उनकी चुप्पी भी सवालों के घेरे में है।

आरटीओ बस्ती भी जांच के लेकर सक्रिय नहीं

प्रकरण में विभागीय जांच आरटीओ बस्ती में मिली है लेकिन अभी तक उन्होंने भी कोई जांच नहीं शुरू की है। वह पूरे प्रकरण को लेकर सक्रिय नहीं दिख रहे हैं।

मामले में विभागीय जांच आरटीओ बस्ती के साथ पुलिस भी मामले में जांच कर रही है। पुलिस और असफर को अपने स्तर पर जांच करनी है, इसमें हस्तक्षेप का कोई औचित्य नहीं है। मामले में जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कार्यवाही होगी।

एम.अंसारी, आरटीओ

Source | livehindustan