नेलोपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने एसओ पर मढ़े आरोप | JAGRAN – Insta India

नेलोपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने एसओ पर मढ़े आरोप | JAGRAN

Browse By

नेलोपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने एसओ पर मढ़े आरोपनेलोपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने एसओ पर मढ़े आरोप
सुलतानपुर : एसओ बल्दीराय रुपए लेकर कत्ल और अवैध कारोबार करवा रहे हैं। वारदातों के फ

सुलतानपुर : एसओ बल्दीराय रुपए लेकर कत्ल और अवैध कारोबार करवा रहे हैं। वारदातों के फर्जी खुलासे कर बेगुनाहों को जेल भेज रहे हैं। उनकी भाषा शैली व हरकतें सड़क छाप गुंडों वाली हैं। एक माह पूर्व पारा गांव में हुए दोहरे हत्याकांड की निष्पक्ष जांच कराने की मांग व क्षेत्र में बदहाल कानून व्यवस्था के खिलाफ आवाज उठाने से थानेदार तिलमिला गए हैं, वे मुझे फर्जी मुकदमे में फंसाकर जेल भेजने की धमकी दे रहे हैं। यह कहना है नेशनल लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद अरशद पवार का। वे शनिवार को पत्रकारों से मुखातिब थे।

उन्होंने कहा कि गत 3 दिसंबर को पारा गांव निवासी शिक्षक व उनके छोटे भाई की पत्नी की घर में घुसकर हत्या कर दी गई थी। इसमें पुलिस की लापरवाही व मिलीभगत की बात सामने आई थी। जिसको सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों के जरिए जिम्मेदारों के संज्ञान में लाते हुए प्रकरण की न्यायिक जांच कराने की मांग की गई थी। अरशद ने 26 दिसंबर को इसी मुद्दे पर धरना-प्रदर्शन की अनुमति एसडीएम बल्दीराय से मांगी थी, लेकिन अनुमति नहीं दी गई। इसी बात से खार खाए थानाध्यक्ष एसपी ¨सह शिकायत वापस लेने का दबाव बना रहे हैं। 27 दिसंबर को उनके घर पर पुलिस भेजकर परिजनों को धमकाया गया। अरशद ने दारोगा से जान का खतरा जताते हुए मामले की शिकायत मुख्यमंत्री व डीजीपी से की है।

वायरल हुई चेतावनी की वाइस क्लिप थानेदार एसपी ¨सह व अरशद पवार के बीच हुई बातचीत की वाइस क्लिप सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर वायरल हो गई है। जिसमें थानेदार नेलोपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को हिस्ट्रीशीटर कह रहे हैं। उन्होंने बेहद तल्ख अंदाज में अरशद को चेतावनी दी है कि’गोरखधंधे व खुराफात बंद कर दो, सुधर जाओ वरना यह तुम्हारे लिए नुकसानदेह होगा। दारू-गांजे का धंधा बंद करवा तुम्हे जेल भेज दूंगा’।

अरशद पवार हिस्ट्रीशीटर अपराधी है। वह दारू-गांजे का अवैध धंधा करते हैं कि नहीं, यह जांच के बाद ही कहा जा सकता है। इसकी जानकारी क्षेत्र के एसओ को बेहतर होगी।

अमित वर्मा, पुलिस अधीक्षक

By Jagran

Source | JAGRAN