स्वस्थ रहकर दूसरों को भी स्वास्थ्य के प्रति करें जागरूक : मुकुट | JAGRAN – Insta India

स्वस्थ रहकर दूसरों को भी स्वास्थ्य के प्रति करें जागरूक : मुकुट | JAGRAN

Browse By

स्वस्थ रहकर दूसरों को भी स्वास्थ्य के प्रति करें जागरूक : मुकुटस्वस्थ रहकर दूसरों को भी स्वास्थ्य के प्रति करें जागरूक : मुकुट
बहराइच) : प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा है कि स्वास्थ्य जीवन की अमूल्

बहराइच) : प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा है कि स्वास्थ्य जीवन की अमूल्य निधि है। हमें स्वयं स्वस्थ रहकर दूसरों को भी स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना चाहिए, जिससे स्वस्थ समाज की परिकल्पना साकार हो सके।

कैसरगंज में आयोजित स्वास्थ्य सेवा उत्सव का शुभारंभ करते हुए कैबिनेट मंत्री ने कहा कि मुझे इस बात की अपार प्रसन्नता हो रही है कि कैसरगंज में आयोजित इस स्वास्थ्य शिविर में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त चिकित्सकों द्वारा यहां के लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। यह एक अनूठी पहल है। इसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। केजीएमयू के प्रोफेसर डॉ. सूर्यकांत ने स्वास्थ्य का जीवन मे कितना महत्व है, इस पर प्रकाश डाला। उन्होंने स्वस्थ कैसे रहा जाए, इसके लिए कुछ उपयोगी टिप्स भी दिए। प्रो.डॉ. नर¨सह वर्मा ने लोगों को प्रकृति से जोड़ते हुए कहा कि हमारी अनियमित जीवनशैली व खानपान हमें बीमारी की ओर ले जा रही है, इसलिए इस पर हमें विशेष ध्यान देना होगा। दवा से ज्यादा प्राकृतिक चीजों का उपयोग करना होगा। संबोधन के बाद कैबिनेट मंत्री ने स्वास्थ्य शिविर का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अपना ब्लडप्रेशर भी चेक करवाया। इस शिविर में 400 से अधिक मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। उचित सलाह के साथ नि:शुल्क दवाएं भी वितरित की गई। 100 से अधिक मरीजों की शुगर, ब्लड प्रेशर व कोलेस्ट्राल की जांच की गई। पूर्व शासकीय अधिवक्ता लल्लन बाबू ¨सह के आवास परिसर में आयोजित स्वास्थ्य सेवा उत्सव में रामनिवास जैन, लल्लन बाबू ¨सह, विजय कुमार ¨सह, गौरव वर्मा, कार्यक्रम संयोजक अखिलेश ¨सह, डॉ.अर¨वद ¨सह, हिम्मत बहादुर ¨सह, प्रमोद गुप्ता, परमहंस पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. नीरज बाजपेई, बुद्धि सागर गुप्ता, एसएन त्रिपाठी, नरेंद्र चौधरी, अशोक ¨सह, अशोक केडिया, डॉ. एमपी ¨सह, चंद्र प्रताप ¨सह, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष विजय कुमार ¨सह समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

By Jagran

Source | JAGRAN