सुंदर, मुंदरिये हो, तेरा कौन विचारा हो | livehindustan – Insta India

सुंदर, मुंदरिये हो, तेरा कौन विचारा हो | livehindustan

Browse By

सुंदर, मुंदरिये होए, तेरा कौन विचारा होए, दुल्ला भट्टी वाला हो, दुल्ले धी (लड़की) ब्याही हो, सेर शक्कर पाई हो। शनिवार को जब गुरुद्वारों में ऐसे गीत बज रहे थे, मानों ऐसा लग रहा था कि पूरा पंजाब ही जीवंत हो गया है। सिख समाज के लोगों ने अग्नि प्रज्जवलित करने के बाद एक दूसरे को लोहड़ी की बधाई दी। वहीं सुबह से ही बाजार में खरीददारी के चलते रौनक रही।

शनिवार को शहर के विभिन्न स्थानों पर धूमधाम से लोहड़ी पर्व मनाया गया। नगाड़े की ताल पर पंजाबी समुदाय के लोग थिरकते हुए नजर आए। मुख्य कार्यक्रम बैकुंठ नगर स्थिति गुरुद्वारे में हुआ। लोहड़ी की धूम में शनिवार को पूरा शहर रंग गया। प्रात: से ही महानगर के गुरुद्वारों में कार्यक्रम शुरू हो गए जो कि रात तक चलते रहे। इस दौरान गुरुद्वारों को भी विशेष रूप से सजाया गया। सुबह से ही गुरुद्वारों में मत्था टेक अरदास करने वालों की कतार लगी रही। शहर के विभिन्न स्थानों पर लोहड़ी के कार्यक्रम हुए। इस दौरान समाज के लोग फिल्मी गानों के साथ ढोल नगाड़ों पर जमकर नाचे और एक दूसरे को गले मिलकर लोहड़ी की बधाई दी। बैकुंठ नगर गुरुद्वारे में देर रात भक्ति की बयार बहती रही। शाम 6:30 बजे से पाठ आरंभ हुए। ज्ञानी गुरुबचन सिंह ने वाहो-वाहो गोविंद सिंह आपे गुरु चेला 350 साल गुरु दे नाल का कीर्तन किया। ज्ञानी ने हर गुरुसिख से अपनी कमाई का दसवांश दान में देने की अपील की। इसके बाद सिख समाज के लोगों ने गुरुद्वारा परिसर में अग्नि प्रज्जवलित की। अग्नि प्रज्जवलित होते ही ढोल नगाड़ों की थाप पर सिख समाज के लोग जमकर थिरके। इसके बाद लोगों ने अग्नि में रेवड़ी, मूंगफली, गजक आदि प्रसाद स्वरूप् भेंट किया। साथ ही सभी को प्रसाद वितरित किया। ज्ञानी गुरुवचन सिंह ने प्रथम लोहड़ी मना रहे नव विवाहित जोड़ों इशदीप सिंह व सुप्रीत कौर, सचकिरत सिंह व शीना कौर, मनजीत व जसप्रती को बधाई दी। इसके उपरांत गुरु का लंगर सभी ने ग्रहण किया।

खूब बिकी मूंगफली, रेवड़ी व गजक

लोहड़ी पर्व को लेकर सुबह से ही बाजार में रौनक है। लोग म मूंगफली, रेवड़ी और गजक की जमकर खरीदारी कर रहे हैं। दुकानों के अलावा सड़क किनारे रहेड़ी पर भी मूंगफली और रेवड़ी की खूब बिक्री हो रही है। मूंगफली, गजक और रेवड़ी के सुंदर और आकर्षक पैक भी बाजार में उपलब्ध हैं। शहर में मूंगफली 100 रुपये प्रति किलो, रेवड़ि़यां 80 से 90 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बिक रही हैं। वहीं, गुड़ गजक 160 रुपये प्रति किलो तो तिल की गजक 180 रुपये से 200 रुपये तक बिक रही है। मैरिस रोड स्थित मार्केट के दुकानदार संजीव कुमार ने बताया कि सर्दी के दिनों में मूंगफली की बिक्री ज्यादा होती है, लोहड़ी पर इसकी मांग बढ़ जाती है। उन्होंने बताया कि उनकी दुकान से 80 से 100 किलो मूंगफली हर रोज बिक जाती है। इसके अलावा गजक, रेवड़ी, पॉपकॉर्न भी लोग खूब खरीद रहे हैं। इस बार 250 ग्राम पैक वाली देसी घी से बनी खस्ता गजक की काफी डिमांड है।

Source | livehindustan