इन तीन शातिरों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, मध्यप्रदेश और गोरखपुर से जुड़े हैं तार | PATRIKA – Insta India

इन तीन शातिरों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, मध्यप्रदेश और गोरखपुर से जुड़े हैं तार | PATRIKA

Browse By

झांसी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जे के शुक्ल के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक नगर देवेश कुमार पांडेय और क्षेत्राधिकारी नगर जितेंद्र सिंह परिहार के नेतृत्व में चलाए जा रहे अभियान के तहत पुलिस ने तीन शातिर वाहन चोरों को गिरफ्तार कर लिया। इनमें से दो मध्यप्रदेश के दतिया के रहने वाले हैं और एक यूपी के गोरखपुर का रहने वाला है। इन तीनों के पास से चोरी की एक-एक बाइक बरामद की गई है। इसके अलावा इनकी निशानदेही पर चोरी की छह मोटरसाइकिलें नाले के पास झाड़ियों में से बरामद की गई हैं।

ये वाहन चोर पकड़े गए

नवाबाद थाना प्रभारी निरीक्षक दीपक मिश्र व उपनिरीक्षक आरके सिंह पुलिस टीम के साथ इलाइट चौराहे पर गश्त कर रहे थे। तभी उन्हें वाहन चोरों के संबंध में महत्वपूर्ण सूचना मिली। इस पर उन्होंने राजकीय संग्रहालय के गेट के सामने चेकिंग शुरू कर दी। इसी दौरान उन्हें किला की ओर से तीन लोग अलग-अलग मोटरसाइकिलों से आते दिखाई दिए। पुलिस ने उन्हें घेर कर पकड़ लिया। पकड़े गए लोगों में मध्यप्रदेश के दतिया कोतवाली क्षेत्र की लुटौरिया की गली का रहने वाला आयुष सैनी, दतिया के धीरपुरा थाना क्षेत्र के गौना का रहने वाला कमल सूर्यवंशी और गोरखपुर यूपी का रहने वाला विशाल सिंह शामिल हैं। इसमें आयुष सैनी के कब्जे से चोरी की मोटरसाइकिल होंडा साइन नंबर यूपी 78सीबी 2202 बरामद हुई। इसे करीब बारह दिन पहले आईसीआईसीआई बैंक से चोरी किया गया था। इसके अलावा कमल के कब्जे से चोरी की मोटरसाइकिल हीरो होंडा पैशन नंबर यूपी 93वी 1400 बरामद हुई। इसे करीब दस दिन पहले मेडिकल कालेज एरिया से राघवेंद्र हास्पिटल से चोरी किया गया था। वहीं विशाल सिंह के कब्जे से चोरी की मोटरसाइकिल पैशन प्रो बरामद हुई। इसे करीब आठ दिन पहले सूरी आटोमोबाइल्स जीवनशाह से चोरी किया गया था। इसके अलावा उन्होंने बताया कि अपने साथियों के साथ मिलकर इन मोटरसाइकिलों को चुराया था। इन्हें मेडिकल कालेज स्टेट बैंक के नाले के पास झाड़ियों में छिपाकर रखा गया है। इस पर पुलिस ने वहां से छह अन्य मोटरसाइकिलों को बरामद किया। इनमें हीरो होंडा पैशन प्रो, हीरो होंडा साइन काला रंग व पल्सर काला रंग वाली गाड़ियां हैं। इनमें से कई बिना नंबर की हैं।

Source | PATRIKA